Majdur Yojana Aavedan

Majdur Yojana Aavedan , मजदूर योजना आवेदन , 35 लाख मजदूरों को मिलेगा 1000-1000 रुपए ।

कोरोना वायरस के चलते देशभर में मंदी का दौर छाया हुआ है ऐसे में देश की आर्थिक स्थिति और अर्थव्यवस्था भी काफी नीचे जा रही है । सरकार के द्वारा मजदूर वर्ग के लोगों या दिहाड़ी मजदूर के लिए मजदूर योजना ( Majdur Yojana Aavedan) शुरू की गई है जिसमें इन लोगों को एक निश्चित राशि सीधे उनके बैंक खाते में भेजी जाएगी ।

Yogi Majdur Yojana Highlights 

 SCHEME NAME   YOGI MAJDUR YOJANA 
LAUNCHED BY UP CM YOGI ADITYANATH
STATE COVERED  UTTARPRADESH
BENEFICIARY दिहाड़ी मजदूर,निर्माण श्रमिकों
 OFFICIAL WEBSITE   NOT LAUNCHED 
APPLICATION PROCESS  NOT SURE , MAY BE DIRECT 

योगी मजदूर योजना ₹1000 प्रति मजदूर / Majdur Yojana Aavedan One thousand For Per Labor

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा कोरोना वायरस को लेकर एक बड़ा ऐलान किया गया है , दिहाड़ी मजदूर (यानी ऐसे मजदूर जो रोज श्रम कर पैसा कमाते हैं और केवल श्रम के बदौलत ही उनका घर चल पाता है ) को ₹1000 प्रति व्यक्ति देने का निर्णय लिया है ।

Advertisement

कोरोना वायरस के चलते लोग ज्यादातर घर में ही रह रहे हैं और इन्हें घर में रहने की ही सलाह दी गई है , ऐसे में श्रमिक वर्ग के लोग जो रोज काम कर 300 से 400 रुपए कमाते थे और अपना घर चलाते थे उनका क्या होगा ?

इसी बात को ध्यान में रखते हुए योगी सरकार ने योगी मजदूर अनुदान योजना (Majdur Yojana Aavedan ) की शुरुआत की है जिसके तहत इन मजदूरों को ₹1000 दिया जाएगा।

सरकार के द्वारा 35 लाख मजदूरों को एक ₹1000-1000 की रकम सीधे उनके बैंक खाते में आरटीजीएस के माध्यम से भेजी जाएगी ।

Advertisement

मजदूर अनुदान योजना में किस प्रकार के मजदूरों को दिया जाएगा लाभ ? /Majdur Yojana Aavedan Benefits

मजदूर अनुदान योजना के तहत 15 लाख दिहाड़ी मजदूर को ₹1000 प्रति मजदूर सीधे बैंक खाते में भेजा जाएगा । साथ ही मजदूर अनुदान योजना के तहत 20.37 लाख निर्माण श्रमिकों को भी योगी मजदूर अनुदान योजना का लाभ दिया जाएगा ।

उत्तर प्रदेश सरकार से मिली जानकारी से यह पता चला है कि 15 लाख दिहाड़ी मजदूर पंजीकृत हैं जिनका डेटाबेस और बैंक अकाउंट की जानकारी सरकार के पास सुरक्षित है ।

साथ ही राज्य सरकार से मिली जानकारी से यह भी पता चला है कि 20.37 लाख मजदूर , जिस में शामिल है रिक्शा चलाने वाले, खोमचे वाले, रेहडी वाले, फेरी वाले निर्माण कार्य करने वाले इत्यादि । जिनका पंजीकरण हो चुका है और सरकार के पास इन लोगों का भी डेटाबेस और बैंक अकाउंट की जानकारी सुरक्षित रखी हुई है ।

Advertisement

इन मजदूरों को सरकार के द्वारा ₹1000 की आर्थिक सहायता और साथ ही साथ भरण-पोषण के लिए भत्ता देने का भी निर्णय योगी सरकार के द्वारा लिया गया है ।

योगी सरकार के द्वारा मनरेगा के मजदूरों के लिए भी एक अहम निर्णय लिया गया है राज्य सरकार के द्वारा बताया गया है कि मनरेगा के मजदूरों का भी भुगतान जल्द से जल्द कर दिया जाएगा । साथ ही सरकार के द्वारा यह भी बताया गया है कि मनरेगा के मजदूर के खाते में भी सरकार ₹1000 का भुगतान जल्द से जल्द करेगी ।

मनरेगा के मजदूरों को मिलेगा अधिक लाभ

योगी सरकार के द्वारा मनरेगा के मजदूरों को अधिक लाभ दिया जाएगा इन मजदूरों को सबसे पहले मनरेगा का भुगतान जल्द से जल्द किया जाएगा , साथ ही इन मजदूरों के खाते में ₹1000 का अतिरिक्त भुगतान योगी मजदूरी योजना के तहत की जाएगी ।

Advertisement

मनरेगा के मजदूरों को खाद्यान्न उपलब्ध कराने का भी फैसला किया गया है , योगी सरकार ने कहा कि 1.65 करोड़ परिवारों को अनाज उपलब्ध कराया जाएगा जिसमें से बीपीएल परिवारों को 20 किलो गेहूं 15 किलो चावल मुफ्त में दिया जाएगा ।

साथ ही सरकार के द्वारा पेंशन धारियों के लिए भी बड़ी घोषणा की गई है जिसमें जितने भी उत्तर प्रदेश के पेंशन धारी हैं उन सभी को अप्रैल और मई के पेंशन का भुगतान अप्रैल माह में ही कर दिया जाएगा ।

योगी मजदूर योजना आवेदन कैसे करें ? /Yogi majdur Yojana aavedan kaise karen

बता दें कि सरकार ने योगी मजदूर योजना के लिए अब तक आवेदन के कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी है सरकार के द्वारा अब तक ना ही कोई ऑनलाइन पोर्टल बनाया गया है और ना ही कोई ऑफलाइन फॉर्म ।

Advertisement

सूत्रों से यह अनुमान लगाया जा रहा है कि सरकार के पास इन मजदूरों का डेटाबेस पहले से मौजूद है और इस कोरोना वायरस की स्थिति को देखते हुए सीधे मजदूरों के खाते में पैसे बिना कोई पंजीकरण लिए भेज दिए जाएंगे ।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सरकार के पास 15 लाख दिहाड़ी मजदूर तथा 20.37 लाख निर्माण मजदूर पंजीकृत हैं और इन मजदूरों का पूरा डाटा बेस साथ ही बैंक अकाउंट की जानकारी भी सरकार के पास मौजूद है । मजदूर योजना आवेदन

तो ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि सरकार बिना कोई पंजीकरण लिए ही इन मजदूरों के बैंक खाते में सीधे ₹1000 की रकम आरटीजीएस के माध्यम से भेज देगी ।

Advertisement

नोट :- जो मजदूर पंजीकृत नहीं है उनके लिए सरकार ने अभी तक कोई भी आदेश नहीं जारी किया है ।

अगर इस योजना में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन या ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन की कोई फॉर्म आती है तो हम आपको उसकी जानकारी इसी आर्टिकल के माध्यम से देंगे ।

Advertisement